ED Full Form in Hindi | ED का फुल फॉर्म क्या है [2024] पूरी जानकारी

नमस्कार दोस्तों, स्वागत है आपका हमारी एक और नयी शानदार पोस्ट ED Full Form in Hindi पर जिसमे हम आपको ED क्या होता है इसका फुल फॉर्म क्या है और इसके उदेश्यो और अधिकारों की पूरी जानकारी देने वाले है।

अगर आप थोड़ा बहुत भी News देखते है और सोशल मीडिया पर एक्टिव रहते है तो आपने कभी न कभी ED के बारे में तो जरूर सुना होगा? देश में अक्सर इसकी चर्चा होती रहती है फिर चाहे आय से अधिक सम्पति का मामला हो या मनी लॉन्ड्रिंग की जाँच का।

और शायद आपके मन में भी ED के फुल फॉर्म को लेकर जिज्ञासा प्रकट हुई होगी और इसलिए तो आप इस पोस्ट पर आये है और अगर आप इस पोस्ट पर आ गए है तो इस पोस्ट को शुरू से अंत तक ध्यानपूर्वक पूरा जरूर पढ़े।

क्योकि इस पोस्ट में आपको ED के फुल फॉर्म के साथ साथ इसके उद्देश्य, अधिकारों और इसके कार्यो की पूरी जानकारी विस्तार से मिलने वाली है।

ED का Full Form क्या होता है

ED Full Form in Hindi

अगर बात करे ED के फुल फॉर्म की तो ED का पूरा नाम Enforcement Directorate होता है जो की किसी भी गलत उद्देश्य या टैक्स चोरी करने के उद्देश्य से बनाई गयी संपति की जाँच करती है।

ED Full Form in Hindi

Short Form Full Form Hindi Meaning
E Enforcement प्रवर्तन
D Directorate निदेशालय

इस प्रकार उपरोक्त सारणी के माध्यम से अब आपको अच्छे से ED के फुल फॉर्म और इसके हिंदी मीनिंग की जानकारी मिल गयी होगी तो चलिए अब ED क्या होता है इसके बारे में जान लेते है।

ED क्या है (What is ED in Hindi)

ED Full Form in Hindi

Enforcement Directorate (ED) एक ऐसा विभाग या जाँच एजेन्सी है जो अवैध संपत्ति की जाँच करती है। जब भी हमारे देश में किसी भी प्रकार घोटाला होता है या आय से अधिक संपति का मामला सामने आता है तो ED ही इसकी जाँच करती है और इसी यह काफी चर्चा में भी रहती है।

ED (प्रवर्तन निदेशालय) एक ऐसी ख़ुफ़िया एजेन्सी है जो हमारे देश में वित्तीय अपराधों पर पूर्ण रूप से नजर रखती है और उनकी जाँच करती है।

ED एक गैर संवैधानिक सरकारी संस्था है जो की केंद्र सरकार के अधीन देश में भ्रष्टाचार को मिटाने का कार्य करती है साथ ही यह भारत में विदेश से जुडी संपति मामलो और अन्य तरह के संपति मामलों की जाँच करती है।

इस प्रकार अब आपको अच्छे से प्रवर्तन निदेशालय क्या है इसकी जानकारी तो मिल गयी होगी तो चलिए अब ED की स्थापना कब हुआ इसके बारे में जान लेते है।

ED का गठन कब हुआ?

ईडी या प्रवर्तन निदेशालय की स्थापना 1 मई 1956 को हुई थी जब Forex Regulation Act 1947 (फेरा) के अंतर्गत आर्थिक कार्यविभाग के नियंत्रण में एक प्रवर्तन इकाई गठित की गयी थी।

उसके बाद सन 1957 में इस इकाई का प्रवर्तन निदेशालय के रूप में पुनः नामकरण कर दिया गया था और मद्रास में इसकी एक शाखा खोली गयी थी।

वर्तमान समय में ईडी के 5 मुख्य कार्यालय है जो की मुंबई, दिल्ली, चेन्नई, चंडीगढ़ और कोलकत्ता में स्थित है और वर्तमान में यह फेरा 1973 और फेमा 1999 के अंतर्गत कार्य करता है।

ED का उद्देश्य क्या है?

हमारे देश में जितनी भी एजेंसियो का गठन किया गया है इनका कोई न कोई उद्देश्य जरूर होता है और इसी तरह ईडी का भी एक विशेष उद्देश्य है।

ईडी (प्रवर्तन निदेशालय) का प्राथमिक उद्देश्य फेमा 1999 और PMLA 2002 जैसे दो प्रमुख भारतीय सरकारी कानूनों को लागु करना है।

ED के अधिकार क्या क्या है?

जैसा की हमने ऊपर बताया की ईडी Forex Regulation Act 1947 के अंतर्गत कार्य करता है और इस अधिनियम को फेरा के नाम से जाना जाता है लेकिन 1 जून 2000 को फेमा लागु कर दिया गया और उसके कुछ समय बाद फेमा से सम्बंधित सभी मामले भी ईडी के अधिकार क्षेत्र में शामिल कर दिए गए।

वर्तमान समय में जैसा की हमने ऊपर बात की ED फेरा 1973 और फेमा 1999 के अंतर्गत कार्यवाही करता है वही इसके अधिकारों की बात करे तो यह निम्न्लिखित अधिकार है जो ईडी को प्राप्त है।

  1. ED को दो अधिनियम फेरा 1973 और फेमा 1999 के तहत भारत सरकार की सभी तरह की वित्तीय जाँच करने का अधिकार प्राप्त है।
  2. साथ ही सरकार ने ED को विदेशी मुद्रा एक्ट के तहत उल्लंगन से निपटने की भी पूरी छूट दे रखी है।
  3. इसके अलावा ED को विदेश में किसी भी संपत्ति पर कार्यवाही करके रोकथाम करके का अधिकार प्रदान किया गया है।
  4. साथ ही ED के पास मनी लॉन्ड्रिंग के आरोपियों के ख़िलाफ़ जब्ती, गिरफ़्तारी और खोज करने का भी अधिकार प्राप्त है।
  5. ED के पास किसी भी फाइनेंसियल रूप से देश में गैरक़ानूनी तरीके से हो रहे कार्यो को लेकर उस पर कार्यवाही करने का अधिकार भी प्राप्त है।

इस प्रकार Enforcement Directorate (ED) के पास उपरोक्त अधिकार होते है जिसके अंतर्गत यह कार्य करता है लेकिन इसका काम क्या होता है तो चलिए इसके बारे में।

ED क्या काम करता है?

प्रवर्तन निदेशालय के बहुत से अलग अलग काम होते है जिसके बारे नीचे बताया गया है। ED मुख्य रूप से तीन अधिनियमों के अंतर्गत कार्य करती है जो की निम्न्लिखित है।

  • Foreign Exchange Management Act (FEMA)
  • Foreign Exchange Regulation Act (FERA)
  • Prevention of Money Loundering Act (PMLA)

यदि मुख्य रूप से इन अधिनियमों के अंतर्गत ED के पास किसी भी व्यक्ति के आय से अधिक संपति की जाँच करने का अधिकार होता है।

मतलब की ईडी किसी भी प्रकार के मनी लॉन्डरिंग के मामलो की जाँच करने का कार्य करती है, मनी लॉन्डरिंग के अपराधियों के खिलाफ गिरफ़्तारी और पूछताछ करने का काम भी ईडी का ही होता है।

साथ ही यदि विदेशी सम्पति के बारे में भी जाँच पड़ताल करने का कार्य करती है और किसी भी प्रकार के वित्तीय अपराधों पर नजर रखने और उनकी रोकधाम करने का काम भी ईडी का ही है।

ईडी किसी भी प्रकार के आर्थिक मामले और आर्थिक रूप से कानून लागू करने का काम भी करती है साथ ही यदि कोई व्यक्ति आर्थिक कानूनों का उल्लंगन करता है तो उसकी जाँच करना भी ईडी का ही कार्य होता है।

भारत में भ्रष्टाचार कम करने में ईडी (प्रवर्तन निदेशालय) की भूमिका

हमारे देश में भ्रष्टाचार को कम करने में प्रवर्तन निदेशालय की एक अहम भूमिका है। प्रवर्तन निदेशालय देश में होने वाले किसी भी प्रकार के मनी लॉन्ड्रिंग और आय से अधिक संपति के मामले की अच्छे से जाँच करती है।

और उसके बाद इन अपराधों को करने वाले अपराधियों की जाँच करके उन्हें कानून के अनुसार सजा भी दिलवाती है जिससे देश में भ्रष्टाचार को कम किया जा सके।

ED के कुछ अन्य फुल फॉर्म

नीचे दी गयी सारणी के माध्यम से आप ED से सम्बंधित कुछ और अलग अलग केटेगरी में फुल फॉर्म के बारे में जान सकते है।

ED Full Form Category
Eating Disorder Psychology > Medical
Enumeration DistrictGovernmental
Effective Dose Medical
Engineering DesignAcademic & Science
Efficiency DecorationMilitary > Governmental

FAQs:- ED Full Form क्या है

ED का पूरा नाम क्या होता है?

ED का पूरा नाम Directorate of Enforcement होता है जिसे हिंदी में प्रवर्तन निदेशालय कहते है।

Enforcement Directorate Meaning in Hindi?

Enforcement Directorate का हिंदी मतलब होता है “प्रवर्तन निदेशालय”

ED का मुख्यालय कहाँ स्थित है?

ED का मुख्यालय दिल्ली में स्थित है साथ ही इसके चार अन्य कार्यालय कोलकत्ता, चेन्नई, मुंबई और चंडीगढ़ में स्थित है।

ED की स्थापना कब की गयी थी?

ED का गठन 1 मई 1956 को हुआ था।

ED कौनसे विभाग के अंतर्गत आता है?

ED वित्त मंत्रालय के राजस्व विभाग के अंतर्गत एक विशेष जाँच एजेंसी के रूप में कार्य करता है।

ईडी का क्या काम है?

ईडी का मुख्य काम होता है देश में होने वाले किसी भी मनी लॉन्ड्रिंग के मामलो या वित्तीय उल्लंगन के मामलो की जाँच करना।

Conclusion –

उम्मीद करते है आपको हमारी यह पोस्ट ED Full Form in Hindi जरूर पसंद आयी होगी और इस पोस्ट में साझा जानकारी आपके लिए काफी उपयोगी रही होगी।

अगर आपको हमारी यह पोस्ट पसंद आयी है तो इसे अपने सोशल मीडिया दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे साथ ही अगर आपको हमारी इस पोस्ट से सम्बंधित कोई भी Doubts है तो हमे कमेंट करके जरूर बताये।

Related Articles :-

मैं kamaikarle.com का Author और Content Writer हूँ। यहाँ हम आपको Online और Offline पैसे कमाने के तरीको के साथ ही तकनिकी, शिक्षा और फाइनेंस से जुडी जानकारी के बारे में विस्तार से बताते हैं।

Leave a Comment